15th August Poems-Independence Day Poems


15th August 2017 Poems and Sayings – 15th August 2017 English and Hindi Poems Collections, poems for india pakistan, ajaadi diwas Poetry in Hindi | 14-15th August 2017 Poem For Kids ,school pray ,essay writing ideas
Independence day English and Hindi Poems

Pandrah August aya.
Hansi khushi sath laya .
Svatantrata Divas pyara,
Tiranga hai laharaya.

Man men hain bhav achchhe .
Saje dhaje hain bachche.
Desh bhakt karm nishtha,
Sahasi sankalp sachche.

Desh ke saput hain ye.
Vishva shanti doot hain ye.
Desh drohiyon ke liye,
kal yamdoot hain ye.

Svarth se hain door bachche.
Prem se bherpoor bachche.
Shan Hindustan ki hain ye,
yogya shur veer bachche.

Related posts:-

Independence Day Poems 2017

Independence Day Poems 2017

Independence Day Poems images

Independence Day Poems images

Independence Day Poems

Independence Day Poems

Tiranga bal vriddha aur pure rashtra ki shan hai.
Tiranga pyara hai hamen ham sab ki shan hai.
Jhukane na dengen ise kahin bhi kabhi bhi,
Tirange per her ek bhartiya ko man hai.

Rang keshariya hai prateek shakti sahas ka.
Shvet rang tirange ka hai suchak shanti satya ka.
Urverata pavanata hara rang dershaye hamen ,
Chakra hai prateek dharati per jeevan ki gati ka.

Puri shakti se utha ker gagan men uchhal do tiranga.
Dekhe sampurn vishva asman men fahara do tiranga.
Kurbaniyan bahut di hain deshbhakt veeron ne ,
Josh bharane do rag rag men uncha lahara do tiranga.
Iss sabha me aaj itni bhid kyon hai
Tirange me lipta hua ye veer kyon hai

Dushmano ko maut ki nind sulane wala
Khoon se lath-path usi ka sharir kyon hai

Jinhe Azadi ka zashna manana tha is varsh
Aaj unka chehra shok se gambhir kyon hai

Kab tab in lashon pe desh shok manayega
Abhi bhi inke pairon me ye zanjeer kyon hai

Karte hain humse vaade hazar dushman humare
Har bar apne vado se jate ye fir kyon hai

Sharahad pe ladne walo ki ye halat dekhkar
Sine me tez chubhta ye teer kyon hai

Lakh samjha lo apne dil ko magar
Aakhon se jhar jhar bahta nir kyon hai
Hum nanhe bachche hain lekin,
humse darte talwar teer.
hum vishv-vijeta Bharat ke,
sidhe sachche saahasi veer.
hum mein giri ki unchaai hai,
man mein sagar ka bhara neer.
hum drin pratigya hum kaaljayi,
jo kah dein patthar ki lakeer.
humne har bandhan toda hai,
hum azadi ke raahgeer.
parwaah nahin tan man dhan ki,
masti mein jeete hum fakir.
Badhe chalo badhe chalo.
veer tum badhe chalo.
Bhartiya sapoot ho.
veer kranti doot ho.
jyoti punj gyan ho.
vasundhra ka maan ho.
tum humari shaan ho.
tum bade mahaan ho.
raah mein ruko nahin.
drishti lakshya par dharo.
lakshay ki taraf badho.
badhe chalo……..

नन्हे बच्चे
हम नन्हे बच्चे हैं लेकिन,
हमसे डरते तलवार तीर.
हम विश्व-विजेता भारत के,
सीधे सच्चे साहसी वीर.
हम में गिरी की उँचाई है,
मन में सागर का भरा नीर.
हम दृण प्रतिज्ञ, हम कालजयी,
जो कह दें पत्थर की लकीर.
हमने हर बंधन तोड़ा है,
हम आज़ादी के राहगीर.
परवाह नहीं तन मन धन की,
मस्ती में जीते हम फकीर.
स्वतंत्रता दिवस प्यारा
पंद्रह अगस्त आया I
हँसी ख़ुशी साथ लाया I
स्वतंत्रता दिवस प्यारा ,
तिरंगा है लहराया I

मन में हैं भाव अच्छे I
सजे धजे हैं बच्चे I
देश भक्त कर्म निष्ठ ,
साहसी संकल्प सच्चे I

देश के सपूत हैं ये I
विश्व शांति दूत हैं ये I
देश द्रोहियों के लिए ,
काल यमदूत हैं ये I

स्वार्थ से हैं दूर बच्चे i
प्रेम से भरपूर बच्चे I
शान हिंदुस्तान की हैं ,
योग्य शूर वीर बच्चे I

सभा में इतनी भीड़
इस सभा में आज इतनी भीड़ क्यों है
तिरंगे में लिपटा हुआ ये वीर क्यों है

दुश्मनों को मौत की नींद सुलाने वाला
खून से लथपथ उसी का शरीर क्यों है

जिन्हे आज़ादी का जश्न मनाना था इस वर्ष
आज उनका चेहरा शोक से गंभीर क्यों है

कब तक इन लाशों पे देश शोक मनायेगा
अभी भी इनके पैरों में ये ज़ंजीर क्यों है

करते हैं हमसे वादे हज़ार दुश्मन हमारे
हर बार अपने वादों से जाते ये *फिर क्यों है

शरहद पे लड़ने वालों की ये हालत देखकर
सीने में तेज़ चुभता ये तीर क्यों है

लाख समझा लो अपने दिल को मगर
आखों से झर झर बहता नीर क्यों है

*फिर=मुकर

तिरंगा प्यारा है हमें
तिरंगा बाल वृद्ध और पूरे राष्ट्र की आन है I
तिरंगा प्यारा है हमें हम सब की शान है I
झुकने न देंगें इसे कहीं भी कभी भी ,
तिरंगे पर हर एक भारतीय को मान है I

रंग केशरिया है प्रतीक शक्ति साहस का I
श्वेत रंग तिरंगे का सूचक है शांति सत्य का I
उर्वरता पावनता हरा रंग दर्शाये हमें ,
चक्र है प्रतीक धरती पर जीवन की गति का I

पूरी शक्ति से उछाल दो गगन में उठा दो तिरंगा I
देखे सम्पूर्ण विश्व आसमान में फहरा दो तिरंगा I
कुर्बानियां बहुत दी हैं देशभक्त वीरों ने ,
जोश भरने दो रग रग में ऊँचा लहरा दो तिरंगा I

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Distributed by name369.com